जुकरबर्ग और फ़ेसबुक को भोपाल से सम्मन ....

Location: Bhopal                                                 👤Posted By: Admin                                                                         Views: 3517

Bhopal: ट्रेड मार्क न मिलने से नाराज स्वप्निल रॉय ने दर्ज कराया मामला
26 अप्रैल 2018। डेटा लीक में नाम आने के बाद फेसबुक के फाउंडर मार्क जुकरबर्ग एक नई मुसीबत मैं फंस गए है। इस बार मुसीबत को वजह मार्क जुकरबर्ग ओर फेसबुक के खिलाफ मध्य प्रदेश को राजधानी भोपाल से सम्मन जारी होना है।दरअसल भोपाल के एक युवा उद्यमी स्वप्निल रॉय ने दुनिया भर के व्यवसाइयों को मंच प्रदान करने के लिए एक वेब साइट ट्रेड बुक बनाई थी।जिसको ट्रेडमार्क लेने से न केवल फेसबुक ने रोका बल्कि कानूनी तौर पर नोटिस भी भेजा जिसके जवाब में स्वप्निल रॉय ने भोपाल की अदालत में मार्क जुकरबर्ग ओर फेसबुक के खिलाफ मामला दर्ज करवाया।

पहले डेटा लीक मामले में दुनिया भर के सामने शर्मिंदगी का सामना,फिर अमेरिकी सीनेट कमेटी के सामने सार्वजनिक माफी,मार्क जुकरबर्ग ओर उनकी बेहद चर्चित वेबसाइट फेसबुक के लिए ये साल अब तक बहुत बुरा साबित हुआ है। इसी कड़ी में अब मार्क जुकरबर्ग को भारत की एक अदालत से मुकदमे का भी सामना करना पड़ सकता है।भोपाल को जिला अदालत ने मार्क जुकरबर्ग ओर उनकी फेसबुक को प्रदेश के एक युवा उद्यमी के स्टार्ट अप में परेशानी खड़े करने के मामले 20 जून को अदालत तलब किया है।

दरअसल भोपाल के युवा उद्यमी स्वप्निल रॉय ने दुनिया भर के व्यवसाइयों को एक मंच प्रदान करने के लिए एक ग्लोबल प्लेटफॉर्म ट्रेडबूक की शुरुवात की।जिसके तहत दुनिया के सभी छोटे बड़े व्यापारी व्यापारिक गतिविधियों के साथ व्यापारिक व्यवहार नेटवर्किंग कर सकते थे।लेकिन फेसबुक को किसी भारतीय उद्यमी का ये कंसेप्ट पसंद नही आया ओर जब स्वप्निल ने ट्रेडबुक के ट्रेडमार्क के लिए अप्लाई किया तब फेसबुक ने ट्रेडमार्क ऑफिस में आपत्ति लगाने के साथ उन्हें तमाम तरह के नोटिस भेजकर धमकाने की भी कोशिश की।

..दरअसल स्वप्निल राय चाहते थे कि जिस तरह चीन से शुरू हुए अलीबाबा ने दुनिया भर के व्यापारियों को रिटेल सेक्टर में मदद की उसी तरह उनकी ट्रेडबूक ग्लोबल प्लेटफॉर्म पर व्यापारियों को आपसी संबंध मजबूत करने,व्यापारिक रिश्ते कायम करने का माध्यम बने।इसी वजह से उन्होंने ट्रेडबूक की शुरुवात की।लेकिन फेसबुक को स्वप्निल का ये स्टार्टअप अपने लिए खतरा नजर आया लिहाज उसने हर तरह से स्वप्निल को परेशान करना शुरू कर दिया।ऐसे में स्वप्निल ने फेसबुक के खिलाफ शिकायतें पीएमओ तक पहुचाई लेकिन कोई सुनवाई न होने पर आखिरकार स्वप्निल को कोर्ट का सहारा लेना पड़ा।जिसके बाद भोपाल न्यायलय ने मार्क जुकरबर्ग ओर फेसबुक के खिलाफ समन निकलते हुए 20 जून को भोपाल अदालत तलब किया।पिछले 18 महीनों से फेसबुक के नोटिसों से परेशान स्वप्निल चाहते है कि भारत सरकार को ऐसे स्टार्टअप ओर युवा उद्यमियों की मदद करना चाहिए जो भारत का नाम दुनिया में ऊंचा करना चाहते हैं।

एक तरफ देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश के युवाओं से स्टार्टअप शुरू कर मेक इन इंडिया मजबूत करने की बात करते हो, कहते हैं कि देश से गूगल फेसबुक और व्हाट्सएप जैसी प्लेटफॉर्म क्यों नही बनते लेकिन जब कोई भारतीय उद्यमी स्टार्ट अप शुरू करने की कोशिश करता है तो उसे तमाम तरह की मुश्किलातों का सामना करना पड़ता है।ऐसे में सवाल उठता है को क्या मोदी के मेक इन इंडिया और स्टार्टअप योजनाओ के दावा खोखला है या फिर मल्टी नेशनल कंपनी के आगे सरकार और सिस्टम घुटने टेक देता है।

- डॉ. नवीन जोशी

Related News

Latest Tweets