देश के साथ ही विदेशों में भी लोकप्रिय है जी.डी.एंड संस पंचांग कैलेण्डर

Location: Indore                                                 👤Posted By: Admin                                                                         Views: 574

Indore: लाला रामस्वरुप जी.डी.एंड संस कैलेण्डर ट्रेडमार्क नं. में आगे 8 पीछे 8
इंदौर, जनवरी, 2018। व्रत-त्यौहार, अवकाश सहित कई अन्य जरुरतों के लिए पंचांग कैलेण्डर
का प्रचलन हर घर में होता है। जबलपुर से प्रकाशित लाला रामस्वरुप जी.डी.एंड संस पंचांग कैलेण्डर अपनी विशेषताओं के कारण न केवल देश बल्कि विदेशों में भी अपनी अलग पहचान बना चुका है।

लाला रामस्वरुप जी.डी. एंड संस के अग्रवाल बंधुओं ने पंचांग कैलेण्डर के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि वर्ष 2018 के लिए यह पंचांग कैलेण्डर नये कलेवर और आकर्षक प्रिंटिंग के साथ बाजार में आ चुका है। लाला रामस्वरुप जी.डी.एंड संस पंचांग कैलेण्डर भारतीय घरों के साथ ही विदेशों में बसे भारतीय परिवारों
में काफी लोकप्रिय है। धार्मिक, सामाजिक और परिवारिक - रीति रिवाजों में यह पंचांग कैलेण्डर परिवार का सदस्य बनकर सामने आया है भारत व्रत और त्यौहारों का देश है किसी भी व्रत-त्यौहार को मनाने में ऋषिमुनियों के दिशानिर्देश और शास्त्रीय निर्णय का पालन करने पर विशेष रुप से पुण्य लाभ और सफलता मिलती है इसी को ध्यान में रखते हुए पंचांग कैलेण्डर में व्रत, पर्व सूक्ष्मरुप से बिल्कुल सही रुप में प्रस्तुत किए गए है। कुछ प्रकाशकों द्वारा विगत कई वर्षोँ से असली नकली का दुष्प्रचार किया जा रहा है। जी.डी. पंचांग कैलेण्डर के उपभोक्ताओं को ऐसे दुष्प्रचार से सावधान रहना चाहिए एवं लाला रामस्वरुप का जी.डी. पंचांग कैलेण्डर खरीदते समय रजिस्ट्रर्ड ट्रेडमार्क नं में आगे 8 पीछे 8 देखकर ही पंचांग खरीदना चाहिए।

श्री अग्रवाल जी ने बताया की हमारी इनामी योजना के वर्ष 2017 की प्रतियोगिता हीरों से जड़ा
पेंडेंट सेट के प्रथम विजेता हैं शशिकला रैकवार इटारसी , दितीय पुरुस्कार हीरे के टॉप्स के विजेता हैं शंकर लाल चौधरी जबलपुर एवं तृतीय पुरुस्कार हीरे की अंगूठी की विजेता हैं नरेन्द्र कुमार गुप्ता इंदौर इसके अलावा 10 सांत्वना पुरुस्कार हीरे की लौंग भी दिए गयें है।

श्री अग्रवाल ने बताया कि वर्ष 1937 से जी.डी. एंड संस पंचांग कैलेण्डर का अपना प्रकाशन लगातार चल रहा है। धीरे-धीरे इस कैलेण्डर ने लाखों घरों में अपना स्थान बना लिया है। इस वर्ष प्रकाशित कैलेण्डर में कई नई बातों का समावेश कर इसे और ज्यादा उपयोगी बनाने की कोशिश की गई है। जी.डी. पंचांग कैलेण्डर में त्यौहारों के साथ ही पुष्य नक्षत्र, विवाह आदि महूर्त राशिफल, मुख्य जयंती दिवस,शासकीय अवकाश, बैंक अवकाशों को भी अलग से दिखाया गया है। ज्योतिष गणना में जी.डी.एंड संस का पंचांग कैलेण्डर सबसे शुद्ध माना जाता है

Related News

Latest Tweets

Latest News