21 वीं सदी में रूस की सैन्य क्षमता को परिभाषित करेगें 'लेजर हथियार' - पुतिन

Location: Bhopal                                                 👤Posted By: DD                                                                         Views: 2439

Bhopal: रूसी नेता व्लादिमीर पुतिन का कहना है कि लेजर तकनीक देश की सेना में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी क्योंकि वह देश के पेरेसिवेट लेज़र सिस्टम के पहले व्यावहारिक परिणामों के बारे में बाता रहे थे।

पुतिन ने शुक्रवार को रक्षा-विषयक कैबिनेट की बैठक में "सामरिक स्तर के युद्धक कॉम्प्लेक्स," सहित लेजर तकनीक के विकास के महत्व पर प्रकाश डाला।

इस तरह के हथियार 21 वीं सदी में बड़े पैमाने पर रूसी सेना और नौसेना की युद्धक क्षमता को परिभाषित करेंगे।
पुतिन ने कहा कि सरकार सेना द्वारा इस्तेमाल किए जाने पर लेजर सिस्टम पेर्सेट के प्रदर्शन का "पहला व्यावहारिक परिणाम" का अध्ययन करेगी। अत्याधुनिक हथियार ने औपचारिक रूप से दिसंबर में परीक्षण सेवा में लिया।

एक प्रसिद्ध 14 वीं शताब्दी के रूसी देशभक्त योद्धा भिक्षु के नाम पर, पेर्सवेट को पिछले साल पुतिन द्वारा घोषित किया गया था।





हथियार के बारे में लगभग सब कुछ वर्गीकृत है, यहां तक ​​कि इसका सटीक उद्देश्य भी। विशेषज्ञों का सुझाव है कि लेजर, अन्य चीजों के अलावा, एक उपकरण के रूप में या क्रूज मिसाइलों सहित हवाई लक्ष्यों को बेअसर करने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। कुछ ने कहा कि सैन्य-ग्रेड पराबैंगनीकिरण का उपयोग दुश्मन के उपग्रहों के खिलाफ किया जा सकता है।

मार्च 2018 में अपने भाषण में पुतिन ने कई नए अत्याधुनिक हथियारों का खुलासा किया। इनमें हवा से प्रक्षेपित हाइपरसोनिक मिसाइल किंजल ('डैगर') थी, जो बाद में सफलतापूर्वक परीक्षण से गुजर गई और इसे मिग -31 लड़ाकू जेट पर लगाया गया।

Related News

Latest Tweets