प्यार के कटोरे में गंगा का पानी ....

Location: Bhopal                                                 👤Posted By: Admin                                                                         Views: 707

Bhopal: अखिल भारतीय कवि सम्मेलन और मुशायरे में अमन की दुआएं
एपीजे डाक्टर अब्दुल कलाम सम्मान से नवाजे गए शायर, सहाफी और डाक्टर
27 जनवरी 2018। 'प्यार के कटोरे में गंगा का पानी, तुम भी पियो हम भी पिएं रब की मेहरबानी ...' अंतर्राष्ट्रीय ख्यातिनाम शायर मंजर भोपाली ने जब अपने इन कलामों को करोंद स्थित दशहरा मैदान में सुनाया तो आयोजन स्थल तालियों से गूंज उठा। मौका था एपीजे अब्दुल कलाम विचार मंच द्वारा एक शाम एपीजे अब्दुल कलाम के नाम से आयोजित कार्यक्रम का। जिला कांग्रेस अल्पसंख्यक विभाग के अध्यक्ष सैयद उस्मान अली के जन्मदिवस के मौके पर यह कार्यक्रम आयोजित किया गया था। मंजर भोपाली के गीत मुझको अपने बैंक की किताब दीजिए देश की तबाही का हिसाब दीजिए ने भी खूब दाद बटोरी।

कार्यक्रम के शुरूआत में सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। जिनमें अदीब और समाजसेवा से जुड़ी हस्तियों को एपीजे डाक्टर अब्दुल कलाम आजाद से सम्मान किया गया। इसके बाद जमी शायरी की महफिल, जिसमें देशभर के जाने माने शायरों ने अपने कलाम सुनाकर देर रात तक कभी श्रोताओं को गुदगुदाता तो कभी देश के ज्वलंत मुद्दों पर अपनी बात रख दी। गणतंत्र दिवस के मौके पर राजधानी के करोंद दशहरा मैदान पर आयोजित अंतर्राष्ट्रीय ख्यातिनाम शायर और कवियों ने ऐसा समां बांधा कि देर रात तक श्रोता इनकी आववाज पर झूमते रहे। यूनुस अदीब अख्तर हिंदुस्तान इंदौर, अनिता पवार दिल्ली , नंदकिशोर अकेला आलोट रतलाम मकसूद अशरफ मालेगांव, नईम आफताब तराना,डा शाकिर सादाब तराना, वाहेगुरु भाटिया मुम्बई, नरेन्द्र नखेत्री उज्जैन, भारत पांडिया, शाहनबाज असीमी उज्जैन, यूनुस अदीब जबलुपर, सूफियान काजी खण्डवा ने अपने कलाम सुनाए। मुशायरा देर रात तक रात साढ़े तीन बजे तक चला। ये कामयाब मुशायरा करोंद दशहरा मैदान की तारीख में नजीर बन गया। कार्यक्रम का सफल संचालन जाने-माने शायर एवं वरिष्ठ पत्रकार मेहताब एवं राज एक्सप्रेस के सिटी चीफ शाहिद कामिल ने किया।

छूटती रहीं हंसी की फुलझडिय़ां
- जैसा कि आयोजन के नाम से ही स्पष्ट है कि यह आयोजन मिसाइल मेन एपीजे डाक्टर अब्दुल कलाम के नाम को समर्पित किया गया था। इसलिए मुशायरे में मौजूद कवियों और शायरों ने शुरूआत में देशप्रेम से ओतप्रोत कविताएं और शायरी सुनाई, गंभीर मूड की इस शायरी के बीच कई कवियों और शायरों ने अपनी शायरी से श्रोताओं को खूब गुदगुदाया। कभी तालियों से दशहरा मैदान गूंजता रहा तो कभी हंसी की फुलझडिय़ों छूटती रहीं।

इनका हुआ सम्मान
- चालीस साल के सफर में हजारों मुशायरे पढे, दर्जनों किताबें लिखीं और साढ़े चार सौ दफा बेहरून का सफर करने वाले अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त शायर इस मुशायरे में सम्मान से नवाजे गए। वहीं आवाज की दुनिया के साथ साथ अदब से नाता रखने वाले आकाशवाणी के उप निदेशक एम रईस सिदृदीकी को भी मंच से सम्मानित किया गया। राजधानी के मशहूर चिकित्सक और समाजसेवा के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य करने वाले डाक्टर जेपी पालीवाल को एपीजे डाक्टर अब्दुल कलाम आजाद अवार्ड प्रदान किया गया।

अपनी कलम के जरिए शोषित और पीडित वर्ग की आवाज बनने वाले और पिछले 32 सालों से वे सतत् पत्रकारिता और लेखन में जुडे, मानवीय स्टोरी और फीचर राइटिंग में विशेषज्ञ आरिफ मिर्जा को भी एपीजी अब्दुल कलाम सम्मान से नवाजा गया।

इनकी रही गरिमामयी मौजूदगी
- मप्र कांग्रेस अल्पसंख्यक विभाग के प्रदेश अध्यक्ष मुजीब कुरैशी, प्रदेश कांग्रेस महासचिव महेन्द्र सिंह चौहान, जिला कांग्रेस शहर अध्यक्ष पीसी शर्मा, जिला कांग्रेस ग्रामीण अध्यक्ष अवनीश भार्गव, कांग्रेस नेता कमरुद्दीन दाऊदी, मुस्लिम त्यौहार कमेटी के राष्ट्रीय अध्यक्ष औसाफ शाहमीरी खुर्रम खास तौर पर मौजूद थे। सभी अतिथियों ने इस मौके पर जिला कांग्रेस अल्पसंख्यक विभाग के अध्यक्ष सैयद उस्मान अली को उनके जन्मदिन पर फूलहार पहनाकर एवं गुलदस्ता भेंट कर बधाई दी।

Related News

Latest Tweets

ABCmouse.com