रंगारंग सांस्कृतिक प्रस्तुतियों के साथ 'स्पिरिट 2018' का समापन

Location: Bhopal                                                 👤Posted By: Admin                                                                         Views: 413

Bhopal: भरपूर जोश और उत्साह से भरी रंगारंग प्रस्तुतियों के साथ बुधवार को स्कोप ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूट्स के 14वें वार्षिकोत्सव 'स्पिरिट 2018' का समापन हुआ। 24 मार्च से चल रहे स्पिरिट ऐनुअल फेस्ट के आखिरी दिन विभिन्न प्रतियोगिताओं में विजेता रहे विद्यार्थियों को पुरस्कृत किया गया। कल्चरल परफॉर्मेंस में स्टूडेंट्स ने अपनी लाजवाब प्रस्तुतियों के जरिए सभी दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया। आरजीपीवी के डेप्युटी रजिस्ट्रार राजेश भार्गव और आरएनटीयू के कुलपति डॉ. ए. के. ग्वाल कार्यक्रम के गेस्ट ऑफ ऑनर थे। मुख्य अतिथि के तौर पर मौजूद आईसेक्ट ग्रुप के निदेशक सिद्धार्थ चतुर्वेदी ने सभी प्रतिभागियों और विजेताओं की प्रतिभा और उत्साह की सराहना की। सभी गणमान्य अतिथियों ने दीप प्रज्जवलन कर समापन समारोह के कार्यक्रम का आगाज किया। इस मौके पर मौसम शर्मा को इस सत्र का बेस्ट स्टूडेंट चुना गया और आईसेक्ट समूह के चांसलर संतोष चौबे के हाथों से ही मौसम को 'संतोष चौबे ट्रॉफी' से सम्मानित किया गया।

पूरे ऐनुअल फेस्ट में सोलो-ग्रुप डांस और सिंगिंग कॉम्पिटिशन्स की धूम रही। साथ ही, ड्रामा और पोइट्री कॉम्पिटिशन्स को भी जमकर सराहा गया। सोलो डांस में नेहा कुशवाहा को पहला और जितेन्द्र जायसवाल को दूसरा पुरस्कार मिला। जहां नेहा ने अप्सरा आली पर लावणी डांस से जूरी का दिल जीता, वहीं जितेन्द्र ने डांसिंग स्टार गोविंदा को ट्रिब्यूट देते हुए कॉन्टेम्परेरी और बॉलिवुड डांस फॉर्म्स के मूव्स से दर्शकों को झूमने पर मजबूर कर दिया। ग्रुप डांस में पहला पुरस्कार जीतने वाली एमबीए कोर्स की घूमर गर्ल्स ने अपनी परफॉर्मेंस से ऐनुअल फेस्ट के माहौल को राजस्थानी फोक से ऐसा सजाया कि सभी दर्शक दंग रह गए।

इसके अलावा, सिंगिंग कॉम्पिटिशन में युवाओं ने अपनी सुरीली प्रतिभा से सभी को चौंका दिया। सोलो कैटेगरी में बलिराम और अंजली को पहला पुरस्कार मिला। वहीं, संकेत और श्रद्धा ने दूसरे नंबर पर कब्जा जमाया। ग्रुप सॉन्ग प्रतियोगिता में संतोष ऐंड ग्रुप की प्रस्तुति सबसे शानदार रही। इन सभी प्रतियोगिताओं के बीच 'जीवन के रंग' नाटक के जरिए स्टूडेंट्स ने इतनी जीवंत प्रस्तुति दी कि सभी दर्शक भावनाओं की बाढ़ से ओत-प्रोत हो गए। मुख्य अतिथि सिद्धार्थ चतुर्वेदी ने इस नाटक द्वारा प्रदर्शित विद्यार्थियों की गंभीर सोच की विशेष सराहना की। पोइट्री कॉम्पिटिशन में विद्यार्थियों ने अपनी साहित्यिक क्षमता के बेजोड़ नमूने पेश किए। सभी प्रस्तुतियों में प्रभात सिंह की कविता को सर्वश्रेष्ठ पाया गया। कार्यक्रम के अंतिम चरण में फिनिशिंग स्कूल की डायरेक्टर डॉ. मोनिका सिंह को स्मृति चिह्न भेंट किया गया और डॉ. सिंह के धन्यवाद ज्ञापन के साथ कार्यक्रम का समापन हुआ।

Related News

Latest Tweets

Latest News