स्वयं तय करें, कौनसा लीडरशिप पैटर्न है आपके लिए.

Location: Bhopal                                                 👤Posted By: डिजिटल डेस्क                                                                         Views: 299

Bhopal: 01 ​दिसंबर 2018। स्टार्टअप स्किल्स को डेवलप करने के लिए वीएएसपीएल इन्क्यूबेशन सेंटर हर माह 'व्यापार मित्र' नाम से वर्कशॉप आयोजित करता है। इसी कड़ी में शनिवार को लीडरशिप स्किल्स को तराशने के लिए सेमीनार आयोजित किया गया। सेमीनार में वीएएसपीएल इनिशिएटिव के डायरेक्टर प्रदीप करम्बलेकर और चेयरमेन आॅफ सीआईआई भोपाल व सीएमडी श्योरविन अभिषेक गुप्ता ने युवाओं को लीडरशिप स्किल्स से रूबरू कराया। वहीँ पंकज अग्रवाल प्रिंसिपल सैक्रेटरी एमएसएमई ने इस 'ओपन टू आॅल' वर्कशॉप में लगभग 40 स्टार्टअप्स के मेंबर्स को बतौर मुख्य अतिथि सम्भोधित किया।

लीडरशिप और प्रापर गाइडेंस के महत्व को बताते हुए अभिषेक गुप्ता ने कहा कि संसाधनों की बजाए अधिक प्रतिभा पलायन सही गाइडेंस और सपोर्ट नहीं मिलने के कारण होता है। ऐसे में जब तक आप अपने अंदर की लीडरशिप क्वालिटी को जगाएंगे नहीं, बिजनेस को ऊंचाईयों तक कैसे पहुंचा पाएंगे। लीडरशिप में अपने आप को पहचानना जरूरी है, इसके बिना आप अपनी टीम को कैसे लीड करेंगे। लीडरशिप क्वालिटी की जरूरत तो हर क्षेत्र में होती है। ऐसे में स्टार्टअप में इसकी अहमियत को नकारा नहीं जा सकता।

वीएएसपीएल इनिशिएटिव के डायरेक्टर प्रदीप करम्बलेकर ने आज के सेमिनार के उद्देश्य पर चर्चा करते हुए कहा कि " इस सेमिनार का उद्देश्य सिर्फ इतना ही था की हम सभी ये समझ सकें कि हमारे और आपके पास लीडरशिप के उद्धरण हर तरफ हैं, वो चाहे हम किसी वर्तमान समय के लीडर से लें या पौराणिक कथाओं से। हमे बस इतना ध्यान रखना है कि जिसे भी हम अपना प्रेरणा का स्रोत चुने उनकी लीडरशिप की कला आपकी टीम के लिए उपयुक्त है या नहीं और आप उस लीडरशिप के स्टाइल के साथ कितने सहज हैं। उदाहरण के तौर पे राम और कृष्णा दोनों ही लीडरशिप के दो बहुत ही सुंदर उदाहरण हैं, युद्ध दोनों ने ही जीता, लेकिन दोनों की लीडरशिप का तरीका बेहद अलग था। यह लीडरशिप के दो विभिन्न पैटर्न हैं। इनमें से आपको ढूढंना और तय करना होगा कि आपको किस पैटर्न की जरूरत है और आपके बिजनेस के लिए इनमें से कौनसा पैटर्न कारगर साबित होगा।"

गौरतलब है कि वीएएसपीएल इन्क्यूबेशन सेंटर पिछले साल नवंबर में शुरू हुआ था। यह युवाओं को नव उद्यमी बनाने में मदद करने को मप्र शासन का अधिकृत केन्द्र है। यहां स्टार्ट अप वाले नव उद्यमियों को गाइडेंस, इन्फ्रास्ट्रक्चर, वेल इक्प्डि आॅफिस, ट्रेनिंग के साथ सीड कैपिटल भी उपलब्ध कराया जाता है। युवाओं को बिजनेस शुरू करने और चलाने के लिए फीड कैपिटल प्रदान करने वाला यह प्रदेश का पहला और एकमात्र इन्क्यूबेशन सेंटर है।

Related News

Latest Tweets