भोपाल लिटरेचर एण्ड आर्ट फेस्टीवल में शिरकत करेंगे देश-विदेश के ख्यातिनाम लेखक व विषय विशेषज्ञ

Location: Bhopal                                                 👤Posted By: Admin                                                                         Views: 340

Bhopal: 12 से 14 जनवरी तक चलने वाले तीन दिवसीय आयोजन में होंगी कार्यशालाएं, परिचर्चाएं, प्रदर्शनी तथा रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम
9 जनवरी, 2019। मल्टी आर्ट सेंटर भारत भवन में 12 जनवरी को भोपाल लिटरेचर एण्ड आर्ट फेस्टीवल (बीएलएफ) के प्रथम संस्करण से पर्दा उठेगा। साहित्य संस्था सोसायटी फाॅर कल्चर एण्ड एनवायरमेंट, हार्टलैण्ड स्टोरीज द्वारा आयोजित इस तीन दिवसीय आयोजन में भारत, अमेरिका, ब्रिटेन व आस्ट्रिया के ख्यातिनाम लेखक, विचारक, कलाकार, बु़िद्धजीवी व कला-संस्कृति के क्षेत्र में कार्य कर रहे विशेषज्ञ भाग लेंगे। इस दौरान वे साहित्य, कला, संस्कृति, रक्षा व कूटनीति, इतिहास एवं पुराण, पर्यावरण, खानपान, तकनीक तथा भारत के भविष्य आदि अनेक विषयों पर सार्थक संवाद करेंगे। इसके अतिरिक्त पुस्तकों व साहित्य से जुड़ी कार्यशालाओं, प्रदर्शनी व सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन भी किया जायेगा। प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ इस भव्य आयोजन का उद्घाटन करेंगे जबकि केन्द्रीय पर्यटन मंत्री अल्फांस कन्ननथनम उद्घाटन कार्यक्रम की अध्यक्षता करेंगे। कार्यक्रम का शुभारंभ गुंदेचा बंधुओं द्वारा देवी सरस्वती की वंदना से होगा।

उक्त आशय की जानकारी आज आयोजित एक पत्रकार वार्ता में फेस्टीवल आयोजन समिति के अध्यक्ष व सेवानिवृत्त आईएएस अधिकारी श्री राघव चन्द्रा ने दी। उन्होंने बताया कि बीएलएफ का उद्देश्य साहित्य को जनसामान्य से जोड़ने का एक प्रयास है। यह प्रयास विचारों की अभिव्यक्ति के उत्सव की भावना से प्रेरित है। इस उत्सव में भारत भवन की विभिन्न वीथिकाओं में अनेक विषयों पर शब्दों का प्रवाह देखने सुनने को मिलेगा। तीन दिवसीय आयोजन में 70 विषय विशेषज्ञों के 60 सत्र संपन्न होंगे। इन सत्रों में समसामयिक विषय, कविता, कहानी, सृजन सहित अनेक विषयों पर परिचर्चाएं, वाद-विवाद, वाचन तथा उद्बोधन होंगे।

आयोजन समिति की सचिव डाॅ. मीरा दास ने कहा कि बीएलएफ का एक अन्य महत्वपूर्ण आकर्षण सुशीला देवी लिटरेचर अवार्ड होगा। महिला लेखिका को उनकी श्रेष्ठ फिक्शन राइटिंग के लिए रतनलाल फाउंडेशन द्वारा आरंभ किया गया यह अवार्ड ख्यातिनाम लेखिका श्रीमती नमिता गोखले को उनकी पुस्तक थिंग्स टू लीव बिहाइंड के लिए दिया जायेगा। अवार्ड विजेता को 2,00,000 रूपये, ट्राफी तथा प्रशस्ति पत्र प्रदान किया जायेगा।

आयोजन समिति के सदस्य व वरिष्ठ पत्रकार श्री अभिलाष खांडेकर ने बताया कि बीएलएफ में 70 लेखकों, कलाविदों व विषय विशेषज्ञों का सक्रिय योगदान रहेगा। इनमें भारतीय खुफिया एजेंसी के पूर्व प्रमुख व लेखक ए एस दुलात, प्रधानमंत्री आर्थिक सलाहकार परिषद के अध्यक्ष व संस्कृत ज्ञाता बिबेक देबराय, फिल्मकार व पर्यावरणविद् प्रदीप किशन, लेफ्टिनेंट जनरल अत्ताह हसने, लेफ्टिनेंट जनरल महिन्दर पुरी, ब्रिगेडियर पूर्व राजनयिक व लेखक पवन वर्मा, शिव कुनाल वर्मा, एस वाय कुरैशी, रजनी सीकरी, अश्विनी लोहानी, टीसीए राघवन, माधवी मेनन, अनिल धारकर, सीमा गोस्वामी, शुचिता मलिक, अतिमा मनकोटियार, केकी दारूवाला, रेबा सोम, तथा सुनीता कोहली आदि शामिल हैं।

बीएलएफ में विभिन्न विषयों पर चर्चा होगी किंतु जिन विषयों को सुनना रोचक होगा उनमें भारत-पाक सैन्य रिश्तों पर आधारित स्पाई क्राॅनिकल्स व पीपल्स नेक्स्ट डोर पुस्तकों पर चर्चा, सैक्सुएलिटी व एलजीबीटी, सिविल सर्विसेस अधिकारियों की पत्नियों के अनुभव, हिन्दुत्व पर आदि शंकराचार्य की अवधारणा, भारत की गायें - कामधेनु, कारगिल युद्ध, चाणक्य एंड यू, भारत-चीन युद्ध, भारतीय चुनाव, सेना अधिकारियों का पारिवारिक जीवन, नवाबी कुजिन व इसका इतिहास, लीडरशिव व मैनेजमेंट तथा खुशवंत सिंह का जीवन व लेखन प्रमुख हैं।

Related News

Latest Tweets