कोर्टयार्ड बाय मेर्रियट मे राजस्थानी व्यंजनों के लुत्फ़ के लिए मेवाड़ी फ़ूड फेस्ट

Location: Bhopal                                                 👤Posted By: DD                                                                         Views: 349

Bhopal: भोपाल, 21 फ़रवरी 2019। मेवाड़ के रॉयल खाने का नाम सुनकर ही मुँह में पानी आ जाता है। जायकेदार बेसिक मसाले, दाल बेसन और सूखी सब्ज़ियों से तैयार होने वाली स्पेशल और रंगीले राजस्थान की अनूठी महक। यहाँ की स्पेशल डिशेस जिनमे बाटी चूरमा से लेकर रॉयल घेवर तक सब शामिल है, हमे राजस्थान के स्वाद से सराबोर कर देते हैं। ईसी स्वाद को भोपाल में पड़ोसने की तैयारी की है होटल कोर्टयार्ड बाय मेरियट ने। इसके लिए होटल के मल्टी कुज़ीन रेस्ट्रॉन्ट -- मोमो कैफ़े में मेवाड़ी रॉयल्टी डिनर शुरुआत की जा रही है। २१ फरवरी से ३ मार्च तक शाम ७:३० से ११ बजे चलने वाले इस फेस्ट में गेस्ट मेवाड़ कुजीन के स्पैशलिस्ट शेफ के हाथों बने जायके का स्वाद ले पाएंगे। इसके लिए जाने माने राजस्थानी शेफ भंवर सिंह को आमंत्रित किया गया है।
मेवाड़ी रॉयल्टी फ़ूड फेस्टिवल के बारे में होटल के एग्जीक्यूटिव शेफ रवीश मिश्रा कहते हैं कि मेवाड़ी व्यंजन एक तरह का शाही भोजन है। यह भोजन उदयपुर रियासत के महलो में परोसा जाता था। विभिन्न प्रकार के व्यंजनों वाला मेवाड़ी खनन रॉयल होने के साथ ही मिटटी की खुशबू से भी जुड़ा है। मेवाड़ का यह पारंगत भोजन बेहद साधारण भोजन होने के बाद भी फ्लावर्स से सराबोर रहता है।
रवीश बताते हैं कि ड्राई एरिया होने के कारण राजस्थान में सब्जियों कितनी वैरायटी नहीं मिल पाती यही वजह है कि मेवाड़ी कुजीन में भी बेसन और दालों से बने व्यंजनों की भरमार है। मेवाड़ी कुजीन की सबसे खास बात है राजस्थान की प्योर परंपरागत मसाले। वह बताते हैं कि इस फेस्ट के दौरान इन्हीं मसालों को विशेष रूप से शेफ भवर सिंह अपने साथ लेकर आ रहे हैं और यहाँ बनने वाला रॉयल मेवाड़ी फूड पूरी तरह परंपरागत रहेगा। वह कहते हैं कि शेफ भवर सिंह भोपाल में मेवाड़ी फूड के मेन्यु को इस तरह डिजाइन कर रहे हैं कि भोपाल के फ़ूड लवर्स रॉयल फूड कल्चर से बखूबी रूबरू हो सकें। मेवाड़ी रॉयल्टी फूड फेस्टिवल में राजस्थान की खुशबू से रूबरू करवाएंगे भंवर सिंह। भंवर सिंह हींग , मेथी और खड़े मसाले जैसे इस कुजीन को बेहतरीन मसालों के इस्तेमाल से मेवाड़ी भोजन की व्यवस्था और खास बात को बनाए रखने के लिए जाने जाते हैं।
यह डिशेस होंगी सर्व
शाकाहारी व्यंजन प्रेमियों के लिए खड़ा देसी पालक, पंचकूटा , सेकमा बाटी , राबड़ी, पापड़ की सब्जी, शाही गट्टे, केर सांगरी, दाल बाटी, मावा कचोरी, दाल की कचोरी, समोसा, मिर्ची बड़ा, पालक के पकोड़े, पनीर रजवाड़ा, जोधपुरी पनीर, मारवाड़ी धनिया मंगोड़ी, चक्की की सब्जी, जयपुर भिंडी, लहसुनी पालक सांगरी , पंच मेला मलाई, प्याज मिक्स वेजिटेबल खिचड़ी, आदि शामिल रहेंगे। वही मांसाहार में शिकार मास का सूला , केर सांगेर वाडी , सेकमा , कलेजी का रायता आदि सर्व किया जाएगा।
डिजर्टस
खाने के अंत में माखनवड़ा कलाकंद, मावा कचौड़ी, पेड़े, राजभोग, बीकानेरी रसगुल्ला, केसरिया जलेबी, मूंग दाल का हलवा, मालपुआ, रबड़ी आदि चखने को मिलेगा।

Related News

Latest Tweets