जब तक दुनिया ​को समझ नहीं आती अमरीका को परमाणु हथियारों का ज़खीरा बढ़ाना चाहिए: ट्रंप

Location: वाशिंगटन                                                 👤Posted By: DD                                                                         Views: 137

वाशिंगटन: अमेरिका के निर्वाचित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने परमाणु हथियारों को लेकर एक बड़ा बयान दिया है. उन्होंने कहा है कि देश को अपने परमाणु हथियारों के ज़खीरे को और मज़बूत करके उसका विस्तार करने की जरुरत है. ट्रंप के इस बयान पर फिर दुनियाभर में सुरक्षा को लेकर नई चर्चा छिड़ गई है. नए वर्ष में अमेरिका के राष्ट्रपति की कुर्सी पर बैठने की तैयारी में जुटे ट्रंप ने कहा कि अमेरीका को नए कदम जरूर उठाने चाहिए और परमाणु हथियारों के ज़खीरे को और मज़बूत करना चाहिए. आपको बता दें कि ट्रंप के इस बयान से पहले रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन का बयान आया था जिसमें पुतिन ने कहा था कि रूस को अपनी सैन्य परमाणु क्षमता को बढ़ाने की आवश्‍यकता है.
यूएस आर्म्स कंट्रोल एसोसिएशन के अनुसार, अमेरीका 7,100 परमाणु हथियार से लैस है. वहीं रूस के परमाणु हथियारों की संख्या 7,300 आंकी जाती है. दुनिया में तमाम मंचों से परमाणु हथियारों में कटौती की मांग उठती रही है ऐसे में ट्रंप का बयान नए विवाद को जन्म दे सकता है.

अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने देश के परमाणु हथियारों के जखीरे को मजबूती और विस्तार देने से जुडा जो ट्वीट किया है, वह ओबामा प्रशासन के खिलाफ बडे नीतिगत बदलाव का संकेत देता है. ओबामा प्रशासन परमाणु हथियारों में कमी लाने और अंतत: उसके उन्मूलन पर जोर देता रहा है. ट्रंप ने कल एक ट्वीट में कहा, "जब तक परमाणु हथियारों के मामले में दुनिया को सद्बुद्धि नहीं आ जाती, तब तक अमेरिका को अपनी परमाणु क्षमताओं को अत्यधिक मजबूती और विस्तार देना चाहिए।" द वाशिंगटन पोस्ट ने इसे राष्ट्रीय सुरक्षा नीति में एक बडा बदलाव बताया है जबकि अमेरिका में परमाणु अप्रसार की मजबूत लॉबी ने आगामी राष्ट्रपति की ओर से आए ऐसे बयान पर अपनी चिंता जाहिर की है.

सेंटर फॉर आर्म्स कंट्रोल एंड नॉन-प्रोलिफरेशन के कार्यकारी निदेशक और 18 साल तक कांग्रेस के सदस्य रह चुके जॉन टियरने ने कहा, "महज 140 अक्षरों का इस्तोमाल कर अमेरिका में एक बडे बदलाव की घोषणा कर देना नव निर्वाचित राष्ट्रपति के लिए खतरनाक है. परमाणु हथियार नीति बारीक, जटिल है और यह इस ग्रह के हर व्यक्ति को प्रभावित करती है.' उन्होंने कहा कि शीतयुद्ध के बाद से यह द्विपक्षीय सहमति बनी रही है कि अमेरिकी रक्षा नीति में परमाणु हथियारों पर निर्भरता कम होनी चाहिए और परमाणु युद्धक सामग्री के संपूर्ण भंडार में कमी आनी चाहिए.

टियरने ने कहा, "परमाणु हथियारों के विस्तार का आह्वान इस आम सहमति को तोडता है. यह अमेरिका की रुस के साथ हुई प्रमुख हथियार नियंत्रण संधि के उल्लंघन की स्थिति में ला देगा। यह निश्चित तौर पर नए परमाणु हथियारों की एक दौड शुरू कर देगा.' इस समय 7000 से ज्यादा मुखास्त्र रखने वाले अमेरिका के पास परमाणु हथियारों का सबसे बडा जखीरा है. इसके बाद रुस, ब्रिटेन, फ्रांस और चीन का स्थान है.

सांसद ने कहा, "और अधिक परमाणु हथियार बनाना या परमाणु विस्फोटक शक्ति बढाना बाकी दुनिया को यह संदेश देता है परमाणु अप्रसार अब अमेरिका का मुख्य लक्ष्य नहीं रह गया.' उन्होंने कहा, "यह विनाशकारी परमाणु दुर्घटना या आदान-प्रदान की आशंकाएं भी बढा देगा. अमेरिकी परमाणु हथियारों की नीति को इतना अधिक बदल देने के संभावित परिणामों की कल्पना भी नहीं की जा सकती.' परमाणु हथियारों के मुद्दे पर यह बयान देने से एक ही दिन पहले ट्रंप ने पेंटागन के शीर्ष जनरलों से मुलाकात की थी. इन जनरलों में रणनीतिक प्रतिरोधक क्षमता एवं परमाणु एकीकरण के डिप्टी चीफ ऑफ स्टाफ, वायुसेना के लेफ्टिनेंट जनरल जैक वीनस्टीन भी शामिल थे.

मौजूदा योजनाएं पहले ही अमेरिकी परमाणु हथियारों के आधुनिकीकरण और रखरखाव के लिए एक खरब डॉलर खर्च करने का आह्वान कर चुकी हैं. पेंटागन ने इस खर्च की समर्थता के मामले में चिंता जाहिर की है.

Related News

Latest Tweets