प्रदेश के हर संभाग में खुलेगी वृध्दजनों के लिये हेल्पलाईन

Location: Bhopal                                                 👤Posted By: Admin                                                                         Views: 254

Bhopal: भारत सरकार ने जारी किये दस करोड़ रुपये
19 मई 2018। प्रदेश के वृध्दजनों के कल्याण के लिये हर संभाग में वृध्दों के लिये हेल्पलाईन एवं परामर्ष केंद्र खुलेंगे। इसके लिये भारत सरकार ने अपनी वृध्दजन एकीकृत कार्यक्रम के तहत मप्र सरकार को 9 करोड़ 86 लाख 27 हजार रुपये आवंटित किये हैं।

उक्त एकीकृत कार्यक्रम का उद्देश्य वरिष्ठजनों के जीवन स्तर में सुधार तथा मूलभूत सुविधायें उपलब्ध कराने के साथ ही उनके जीवन के अंतिम पड़ाव में सम्मानजनक जीवन यापन करने की व्यवस्थायें करना है। इस एकीकृत परियोजना के प्रथमचरण में वर्तमान वित्तीय वर्ष में राज्य के सभी दस संभागों में चार काम होंगे। एक, वृध्दजनों हेतु हेल्पलाईन एवं परामर्श केंद्र का संचालन। दो, मोबाईल चिकित्सा इकाई का संचालन। तीन, कार्यरत डे-केयर सेंटर में फिजियोथेरेपी की सुविधा उपलब्ध कराना। चार, नवीन पीढिय़ों को जागरुक करने हेतु कार्यक्रम का संचालन। इसी प्रकार द्वितीय चरण में सभी संभागों में दो काम होंगे। एक, स्कूल एवं कालेज के छात्रों को जागरुक करने हेतु कार्यक्रम का संचालन। दो, वृध्द व्यक्तियों के लिये स्वैच्छिक ब्यूरो का संचालन। ये काम सर्वप्रथम भोपाल संभाग से प्रारंभ किये जायेंगे।

यह रहेगी बजट की व्यवस्था :
प्रदेश में दस संभाग भोपाल, जबलपुर, इंदौर, ग्वालियर, उज्जैन, रीवा, शहडोल, चम्बल, होशंगाबाद और सागर हैं। पहले चरण में प्रत्येक संभाग को वृध्दजनों हेतु हेल्पलाईन एवं परामर्श केंद्र का संचालन हेतु 10 लाख 2 हजार 600रुपये, मलिन बस्तियों, ग्रामीण और दुर्गम क्षेत्रों में रहने वाले वृध्दजनों के लिये मोबाईल चिकित्सा इकाई हेतु 11 लाख 7 हजार 600 रुपये, प्रति माह मनोभ्रंश/विक्षिप्त से पीडि़त 20 वृध्दजनों हेतु डे-केयर सेंटर संचालन हेतु 14 लाख 38 हजार रुपये, प्रति माह 50 वृध्दजनों के लिये फिजियोथैरेपी क्लिनिक संचालन हेतु 13 लाख 64 हजार रुपये तथा नवीन पीढिय़ों को जागरुक करने हेतु कार्यक्रम का संचालन हेतु 75 हजार रुपये दिये जायेंगे। इस प्रकार पहले चरण में सभी संभागों के लिये कुल 4 करोड़ 98 लाख 72 हजार रुपये व्यय किये जायेंगे।

जबकि द्वितीय चरण में हर संभाग को स्कूल एवं कालेज के छात्रों को जागरुक करने हेतु कार्यक्रम का संचालन हेतु 7 लाख 38 हजार 500 रुपये, वृध्द व्यक्तियों के लिये स्वैच्छिक ब्यूरो का संचालन हेतु 2 लाख 86 हजार 200 रुपये तथा रेस्पाईट केयर गृह के रखरखाव हेतु 12 लाख 74 हजार 800 रुपये आवंटित किये जायेंगे। इस प्रकार द्वितीय चरण में सभी संभागों के लिये कुल 4 करोड़ 87 लाख 55 हजार रुपये व्यय किये जायेंगे।

डॉ नवीन जोशी

Related News

Latest Tweets